9 करोड़ में बिका सबसे खतरनाक लैपटॉप

नई दिल्ली। दुनिया का सबसे खतरनाक लैपटॉप 13 लाख डॉलर (करीब 9 करोड़ रुपये) में बिका है। यह लैपटॉप एक ऑनलाइन नीलामी में बिका है। सैमसंग के इस लैपटॉप में दुनिया के 6 सबसे खतरनाक वायरस हैं। Samsung NC10 लैपटॉप में मौजूद 6 मोस्ट डैंजरस वायरस ने दुनिया भर में करीब 95 अरब डॉलर का नुकसान किया है। लैपटॉप को इंटरनेट से अलग और एयर-गैप्ड रखा गया है। साथ ही, इस लैपटॉप को सेफ रखने के लिए इसमें दिए गए पोर्ट को डिसेबल कर दिया गया है। इस Windows XP लैपटॉप को आर्ट वर्क के रूप में बेचा गया है। इसे The Persistence of Chaos नाम दिया गया है।

Wanna Cry जैसा खतरनाक वायरस

इंटरनेट आर्टिस्ट गुओ ओ डॉन्ग ने साइबर सिक्यॉरिटी कंपनी डीप इन्स्टिंक्ट के साथ मिलकर इसे तैयार किया है। इस लैपटॉप के लिए खतरनाक वायरस की सप्लाई डीप इन्स्टिंक्ट ने की है। इस लैपटॉप में Wanna Cry रैनसमवेयर जैसे खतरनाक वायरस हैं। इस वायरस ने मई 2017 में अटैक किया था। इस वायरस के अटैक से 150 देशों के 200,000 से ज्यादा कंप्यूटरों पर असर पड़ा था। इस वायरस ने ब्रिटेन की नेशनल हेल्थ सर्विस को ठप करने के साथ फ्रांस में रेनॉ की फैक्ट्री में कामकाज बाधित किया था। Wanna Cry वायरस से करीब 4 अरब डॉलर का नुकसान हुआ था। लैपटॉप में दूसरा खतरनाक वायरस BlackEnery है, जिसने यूक्रेन और आसपास के इलाकों में पावर ग्रिड को बंद कर दिया था।

 ILOVEYOU वायरस भी

सैमसंग के इस लैपटॉप में बहुत तेजी से फैलने वाला MyDoom वायरस भी है। इस वायरस का अटैक 2004 में हुआ था। इस वायरस के पीछे रूसी के ई-मेल स्पैमर्स का हाथ बताया जा रहा है। लैपटॉप में ILOVEYOU वायरस भी है, जिसने साल 2000 में 5 लाख से ज्यादा कंप्यूटर सिस्टम्स को प्रभावित किया। इस वायरस ने कंप्यूटर तक पहुंच बनाने के लिए ई-मेल और फाइल शेयरिंग सर्विसेज का इस्तेमाल किया। इसके अलावा, लैपटॉप में SoBig और DarkTequila वायरस भी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *