आखिर किसके दबाव में हैं बीसीसीआई के राष्ट्रीय चयनकर्ता?

जिला से निबंधन नहीं होने के वावजूद कहां से आए लखन
बिहार से  विजय हजारे कप के लिए खिलाड़ियों की चयन प्रक्रिया शक के घेरे में 
पटना। बिहार किकेट एसोसिएशन का चुनाव होने वाला है। बीसीसीआई की सुपरवाईजरी धीरे-धीरे कंट्रोलिंग कमेटी बनती जा रही है । क्रिकेट की सारी गतिविधि सीओए, बीसीसीआई के द्वारा गठित कमिटी संचालित कर रही है। बीसीए के द्वारा बनाई गई चयन समिति को काम करने से रोक कर राष्ट्रीय स्तर के चयनकर्ताओं के द्वारा विजय हजारे की टीम के चयन के लिए उर्जा स्टेडियम 17 और 18 को ट्रायल की घोषणा की गई।
लखन राजा – फाइल फोटो
सभी क्रिकेटरों को लगा की अब कुछ और भी अच्छा होने वाला है, लेकिन क्रिकेटरों ने जब लखन राजा को ट्रायल देते देखा और ट्रायल के बाद सेलेक्टरों के द्वारा लखन राजा को दिए गए गर्मजोशी से किए गए स्वागत ने सभी खिलाड़ियों को हैरान कर दिया कि  जिस खिलाड़ी ने न तो किसी जिला से लीग खेला, ना ही वो कहीं से निबंधित है, फिर वो किस हैसियत से ट्रायल का हिस्सा बना। चर्चा का बाज़ार गर्म है कि लखन राज के ट्रायल को लेकर बीसीसीआई के राष्ट्रीय चयनकर्ताओं पर ऊपर से दबाव था। अब सवाल यह है कि आखिर किसके दवाब में झुक गए  बीसीसीआई के राष्ट्रीय स्तर के चयनकर्ता और यह सिलसिला आखिरकार कब तक चलेगा। इस ताजा घटना से एकबार फिर जिलों में बेहतर प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों का मनोबल टूटा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *